निसर्ग ने माँ के गर्भ में और जन्म से आज तक कुछ भी दवाई नहीं ली

निसर्ग ने माँ के गर्भ में और जन्म से आज तक कुछ भी दवाई नहीं ली

मेरे मन में बार-बार एक विचार आता था कि “इस पृथ्वी के हर मादा-प्राणी (मनुष्य छोड़कर) की प्रसूति (childbirth) बिना किसी दवाई के ही सहज, प्राकृतिक और अती वेदनारहीत होती है !

और कुछ वर्षों पहले महिलाओं की प्रसूति भी ऐसे ही होती थी। तो क्या हम आधुनिक महिलाओं की प्रसूति भी बिना किसी दवाई के ही सहज, प्राकृतिक और अती वेदनारहीत हो सकती है ?”

और फिर इस प्रश्न का अनुभव आधारित उत्तर जानने का समय आ गया, जब मैंने गर्भधारण किया।

इस प्रयोग में मेरे पति (डॉ.आशिष ठक्कर) का मुझे पूर्ण सहयोग मिला।

हम दोनों ने इस विषय में गहरा अध्ययन करना शुरू किया।

इससे मुझे अपने माइंड को “सहज प्रसूति” के लिए रीसेट करने के अनेक वैज्ञानिक तरीकों के बारे में पता चला।

और फिर वह दिन आ गया, जिसका मुझे और मेरे पति को इंतजार था। मुझे प्रसूति का दर्द शुरू हो गया।

मैंने बिना किसी दवाई के ही कुदरती और अती वेदनारहीत प्रसूति द्वारा अपने बेटे को जन्म दिया। यह प्रसूति हमारे घर पर ही हुई है। उस समय मेरे साथ सिर्फ मेरे पति थे। और मेरी माँ बहार रूम में थी।

हमारे बेटे का जन्म नैसर्गिक तरीके से हुआ है, इसलिए हमने उसका नाम भी निसर्ग रखा है (निसर्ग का मतलब है कुदरत)।

मेरे गर्भ में और जन्म से लेकर आज तक उसे हमने कुछ भी दवाई या वैक्सीन नहीं दी है।

उसकी प्रतिकार शक्ति इतनी अच्छी है कि वह जल्दी बीमार नहीं पड़ता।

और कभी कुछ तकलीफ हुई तो भी बिना दवाई के ही बहुत ही कम समय में ठीक हो जाता है।

सरस्वती आशिष ठक्कर (डॉ.ठक्कर की पत्नी)


हेल्दी किड्स प्रोग्राम के बारे में अधिक जानने के लिए यहाँ क्लिक करें 


हेल्दी किड्स प्रोग्राम के कुछ अन्य सफल अनुभव के लिए यहाँ क्लिक करें >>

वंशिका की चमड़ी और टॉन्सिल्स की तकलीफ हमेशा के लिए ठीक हो गई

जय की टॉन्सिल्स की बीमारी बिना ऑपरेशन के ही ठीक हो गई

रीना अपेंडिक्स का ऑपरेशन किए बिना ही ठीक हो गई

ख़ुशी की पुरानी बीमारी ठीक हो गई और आँखों का नंबर भी उतर गया

हेतवी की दमे की बीमारी बहुत ही कम समय में ठीक हो गई

मानिया की चमड़ी की एलर्जी जड़ से ठीक हो गई

निकिता की 8 cm ऊंचाई बढ़ गई

सोनाली की मासिक धर्म और सर्दी-खांसी की पुरानी तकलीफ ठीक हो गई

प्रथम की 2 साल पुरानी चमड़ी की बीमारी 1 महीने में ठीक हो गई

नंदकुमार की 14 वर्षों पुरानी खांसी की बीमारी जड़ से ठीक हो गई

आदर्श के बुखार और उल्टी बिना दवाई के ही 1 दिन में ठीक हो गए

जयश्री की किडनी की पथरी निकल गई और लीवर की सुजन भी ठीक हो गई

⇒ जयश्री माने की सोनोग्राफी रिपोर्ट

गंभीर नवजात शिशु एक दिन में ही ठीक हो गया

 

हमारे बच्चों के अनुभव

दिपेश ने 17 सालों से कुछ भी दवाई नहीं ली है

निसर्ग ने माँ के गर्भ में और जन्म से आज तक कुछ भी दवाई नहीं ली


 

Sharing is Caring !